Skip to content

सरकार पीछे हटने को मजबूर, आमरण अनशन अभी के लिए थामा गया है, पर संघर्ष और धरना जारी है. .

April 4, 2013

MARUTI SUZUKI WORKERS UNION

(Registration No. 1923)

IMT Manesar, Gurgaon

Date: 04-04-2013

 

साथियों,

 

का. रामनिवास, का. अमरजीत, का. राकेश और का. क्रिशन द्वारा कैथल में किए गए हमारे आमरण अनशन ने पिछले दिनों में हमारे संघर्ष को और भी ताकत और उर्जा प्रदान किया | हमें आस-पास के इलाकों के मेहनतकश जनता और फैक्ट्री के मजदूरों से बढ़ता समर्थन मिला है और आज हमारा संघर्ष हरियाणा समाज में हर दिन और भी गहरी जहग बना रहा है| सरकार-प्रबंधन ने हमारे संघर्ष को थकाने के लिए विभिन्न पैतरे अपनाए| उनहोंने उद्योग मंत्री रणदीप सुरजेवाला के निवास के सामने पुलिस की संख्या बढ़ाने और हम पर निजी ज़मीन को कब्जाने और उसके मालिक को जान की धमकी देने के मुक़दमे लगाने के बावजूद भी हमारे संघर्ष को कुचल नहीं पाए| 1 अप्रैल 2013, हमारे भूख हड़ताल के 5वें दिन से हम अपने धरने को लघु सचिवालय, कैथल के सामने ले गए और भारी दबाव के तहत जिलाधीश हमसे मिलने और हम पर लगाए गए झूठे मुकदमों को वापस लेने पर मजबूर हुए| अनशनकारियों का स्वास्थ बराबर बिगड़ते जाने पर आखिरकार 5वें दिन प्रशासन ने उनकी जांच के लिए सरकारी डाक्टर भेजे| जन संघर्ष मंच, जन संगठन मंच, मनरेगा मजदूर यूनियन, जनवादी महिला समिति, सीटू (हरियाणा), भट्टा मजदूर यूनियन, क्रांतिकारी नौजवान सभा, इंकलाबी मजदूर केंद्र, बिगुल मजदूर दस्ता, संग्रमिक श्रमिक कमेटी और PUDR जैसे विभिन्न जन संगठन भी हमारे संघर्ष में साथ आए|

 

2 अप्रैल 2013, हमारे अनशन के 6ठे दिन हजारों की संख्या में हमारे रिश्तेदार, गिरफ्तार साथियों के परिवारवाले और आस-पास के गाँव के पंचायती बुज़ुर्ग हमारे समर्थन पर सड़कों पर उतरे| कैथल शहर से गुज़रते हुए हमारा विशाल जुलूस राज्य उद्योगिक मंत्री के निवास के सामने पहुंचा| बूढ़े और जवान, दादियाँ और नवजात शिशु सब हामारे जूलूस में शामिल हुए और न्याय के लिए उठी हमारी आवाज़ को अपने नारों से और भी बुलंद किया| ढेरों की संख्या में महिलाएं उनके परिवार के एकमात्र पालनकर्ता के बेरोजगार या गिरफ्तार हो जाने पर उनके परिवार के रोज़गार, उनके बच्चों की शिक्षा और एक सुखद जीवन जीने के उनके हक़ पर सरकार और मारुति मैनेजमेंट द्वारा किए जा रहे आघात के खिलाफ आंदोलित हुई| हमने ठान लिया था की न्याय मिले बगैर हम चैन से नहीं बैठेंगे| प्रशासन ने इसका जवाब मंत्री जी के निवास के सामने पुलिस की भरी संख्या को तैनात करके दिया| जब धरने को संबोधित करते वक्ताओं ने उन्हें चेतावनी दी की अगर दस मिनट में कोई हमसे बात करने नहीं आया तो लोगों को प्रशासन तक पहुँचने के और तरीके अपनाने पड़ेंगे| तब उनसे जुस्क सुनने में आया| इस झुझारू धरने ने कैथल-कुरुक्षेत्र हाईवे को तीन घंटों तक रोक कर रखा| उद्योग मंत्री, जिन्होंने पहले अपने दबाव में आने का कारण यह बताया था की उद्योग मंत्री के नाते उनका एक मात्र काम कंपनियों के लिया ज़मीन हासिल करना था, उनको भी हमारे दबाव के आगे झुकना पड़ा| हरियाणा के मुख्यमंत्री भूपिंदर सिंह हुड्डा के साथ चंडीगढ़ में 3 अप्रैल 2013 को एक मीटिंग तय की गयी|

 

3 अप्रैल 2013, भूख हड़ताल के सातवे दिन पर, प्रोविजनल वर्किंग समिति के सदस्य मुख्यमंत्री से मिलने गए, जहाँ यह ज़ाहिर था की हमारे संघर्ष के कारण उन पर काफी दबाव पड़ा है| हमें सहारा देते हुए बहुत से मजदूर, विद्यार्थी और जन संगठन फिर से शामिल हुए| हड़ताल पर बैठे साथियों के संघर्षशील जज्बे ने हम सब में जोश भर दिया| हम अपने संघर्ष में द्रिढ़ हैं और मंत्रियों और प्रशासन के झूठे वादों से नहीं बेह्केंगे| अपने संघर्ष को आगे बढाने के लिए हम इससे भी बड़े कदम लेने के लिए तैयार हैं|

 

पिछले दो साल के अंतराल में हमने फैक्ट्री के अन्दर काम करने की शोषणकारी परिस्थितियों के खिलाफ अथक संघर्ष किया है और अपने संघर्ष को अन्य मजदूरों और ख़ास तौर से ठेका मजदूरों के संघर्षों से जोड़ने की कोशिश की है| हम अभी भी ऐसा करने की कोशिश में जुटे हैं और जुटे रहेंगे| वर्तमान समय में शहरों और गांवों में अपने संघर्ष को पहुंचाने और वहाँ के मेहनतकश जनता के संघर्ष से जोड़ने का हमारा अभियान जारी है| हम मारुति जैसे पूंजीपतियों के आदेश पर सरकार द्वारा थोपे जा रहे ‘विकास’ के मौजूदा आदर्श के खिलाफ अपने संघर्ष को आगे लेजाने पर द्रिढ़ हैं|

 

मजदूर साथियों और नागरिको, न्याय के लिए, नौजवानों का सम्मान के साथ रोज़गार के लिए, सरकार की विकास के नाम पर थोपी जा रही गलत नीतियों के खिलाफ और पूंजीपतियों व सरकार के साठ-गाँठ के खिलाफ आवाज़ बुलंद करने में तन-मन-धन से हमारा सहयोग करे| हम मारुति के मजदूर इस संघर्ष के माध्यम से, सिर्फ अपनी आर्थिक हितो के लिए ही नहीं, बल्कि हर किसम की गैर-बराबरी व अन्याय के खिलाफ लगातार संघर्ष करेंगे| हम सभी मजदूरों और समाज के अन्य तबकों, ट्रेड यूनियनों और जनवादी एवं जन संगठनों से अपील करते हैं की वे हमारे संघर्ष के समर्थन में आगे आयें|

No comments yet

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: